इटावा का सहकारी प्रबंध प्रशिक्षण केंद्र बेहाल

Etawah Sahkari Training Camp

इटावा। सैफई हैवरा स्थित सहकारी प्रबंध प्रशिक्षण केंद्र का हाल-बेहाल है। इस केंद्र को प्रदेश सरकार ने 12 साल से एक रुपये की भी मदद नहीं की है। एक लिपिक व दो प्रवक्ताओं के सहारे केंद्र चल रहा है। वर्ष 1979 में तत्कालीन सहकारिता मंत्री मुलायम सिंह यादव ने इस प्रशिक्षण केंद्र की नींव रखी थी। इसका मुख्य उद्देश्य किसानों के लड़कों को सहकारी मैनेजमेंट का प्रशिक्षण देना था।

सहकारी समितियों की नियुक्तियों में इस केंद्र के डिप्लोमा धारकों को वरीयता दी जाती है। साढ़े 4 माह की ट्रेनिंग में एकाउंट ऑडिट, सहकारी लॉ सिखाया जाता है। पूरे प्रदेश में ऐसे केवल 6 प्रशिक्षण केंद्र हैं। किसानों और गरीबों को यहां पर प्रशिक्षण मिल सके उसको लेकर ही इसकी स्थापना की गयी थी। शुरूआत में तो सब ठीक-ठाक चला उसके बाद हालत बद से बदतर होती चली गयी। केंद्र के हॉस्टल की छतों से पानी टपक रहा है। चाहरदीवारी टूटने के कारण मवेशी अंदर घुस आते हैं। यहां पर 50 सीटें उपलब्ध हैं वर्तमान में 41 छात्र प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। तीन प्रवक्ताओं की स्थायी नियुक्ति होनी चाहिए लेकिन दो प्रवक्ता संविदा में काम कर रहे हैं। वर्ष 1989 में मुलायम सिंह यादव जब मुख्यमंत्री बने थे तब सहकारिता मंत्री ग्याप्रसाद वर्मा ने प्रशिक्षण केंद्र के मीटग हॉल के लिए धन आवंटित किया था। पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने भी वर्ष 2004-05 में भवन निर्माण के लिए इस केंद्र को 18 लाख रुपये प्रदान किये थे। उसके बाद से इस केंद्र को कोई मदद नहीं दी गयी।

उत्तर प्रदेश सहकारी यूनियन लिमिटेड के अधीन इस केंद्र की दुर्दशा को लेकर कई बार उच्च अधिकारियों को पत्र भी लिखे गये परंतु उन पत्रों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया। हालात इतने खराब हैं कि ट्रेनग सेंटर की बिजली का बिल छात्रों की फीस से दिया जा रहा है। शासन ने बिजली के बिल के लिए भी धनराशि आवंटित नहीं की है। केंद्र का काम देख रहे पूर्व प्रधानाचार्य व संविदा पर प्रवक्ता हरीशंकर त्रिपाठी ने बताया कि शासन द्वारा कोई वित्तीय सहायता न दिए जाने से केंद्र की स्थिति खराब है। केंद्र के संचालन के लिए कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

Tags
, ,

RELATED POSTS

© 2017 Dew Media News Broadcasting Private Limited