POK में खुलकर हो रहा पाकिस्तान का विरोध, फिर उठी आजादी की मांग

PoK

नई दिल्ली। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में अब पाकिस्तान के विरुद्ध असंतोष बढ़ता ही जा रहा है। यही कारण है कि अब लोग और राजनैतिक पार्टियां मुखर होकर खुलेआम पाकिस्तान का विरोध कर रही हैं। पीओके के कई राजनैतिक लोगों का कहना है कि पीओके के लोगों के साथ गुलामों की तरह बर्ताव किया जाता है।

क्या है मामला

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक पीओके के राजनैतिक कार्यकर्ता का कहना है कि “पीओके में लोगों को गुलाम समझा जाता है और उन्हें देशद्रोही कहा जाता है। इतना ही नहीं पाकिस्तान के खिलाफ बोलने पर नेशनल एक्शन प्लान के नाम पर निर्दोष लोगों को जेल में डाल दिया जाता है।”

लोगों का कहना है कि पीओके में विकास बिल्कुल नहीं हुआ है। यहां ना कोई सड़कें हैं और ना ही कोई कारखाना। लोगों पर कई तरह के प्रतिबंध हैं, यहां तक कि यहां कई किताबें बैन कर दी गई है।

PoK

“पाकिस्तान का हिस्सा नहीं “

पीओके के राजनीतिज्ञ मिसफर खान का कहना है कि पाकिस्तान की राजनैतिक पार्टियों को पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान में लूट और शोषण बंद कर देना चाहिए। मिसफर खान ने कहा कि ये क्षेत्र पाकिस्तान का हिस्सा नहीं है। बता दें कि इससे पहले पाकिस्तान सरकार कई सामाजिक और राजनैतिक कार्यकर्ताओं को नेशनल एक्शन प्लान के तहत जेलों में डाल चुकी है।

लेकिन समय समय पर यहां आजादी की मांग उठती रहती है। जिसके पाकिस्तान की सरकार अपनी दमनकारी नीति से दबाने की भरसक कोशिश करती है।

loading...
Tags

RELATED POSTS

© 2016 Dew Media News Broadcasting Private Limited