करवा चौथ: पूजा का फल चाहिए तो भुलकर भी न करें ये काम

Karva Chauth

करवा चौथ का व्रत आज हर सुहागन अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती है और उनके पति भी इस मौके पर उनका खास ख्याल रखते हैं तो कुछ प्रेमिकाएं भी अपने प्रेमी के लिए आज व्रत रखती हैं। आज के दिन सभी पत्नियां दिनभर व्रत रहने के बाद करवा चौथ की कथा सुनती हैं और चाँद निकलने पर अर्घ्य चढ़ाकर पति का चेहरा देख कर अपना व्रत खोलती हैं। लेकिन आज के दिन कुछ ऐसी भी चीजें हैं जिनका व्रत के समय ख़ास ख्याल रखना चाहिए क्योंकि माना जाता है कि ऐसा नहीं करने पर चंद्रमा नाराज हो जाते हैं साथ ही पत्नियों को पूजा का फल भी नहीं मिलता। चलिए जानते हैं किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए..

करवा का व्रत!

  • माना जाता है कि, करवा चौथ के दिन अगर पत्नी मां, सास या अन्य किसी बुजुर्ग का अपमान करती है तो उसका व्रत अधुरा रह जाता है क्योंकि इस व्रत में बड़े-बुजुर्गों के आशीर्वाद का भी महत्व होता।
  • करवा चौथ के दिन माँ गौरी की पूजा की जाती है उन्हें हलवा-पूरी का भोग लगाने के बाद ये प्रसाद सब में जरूर बांटे और इसे अपनी सास को देना न भूलें।
  • इस दिन विवाहित महिलाएं किसी को भी दूध, दही, चावल कोई भी सफेद कपड़ा या अन्य सफेद वस्तु नहीं देनी चाहिए क्योंकि माना जाता है इससे चंद्रमा नाराज हो जाते हैं और व्रत का फल भी अशुभ मिलता है।
  • इस दिन महिलाओं को सफेद या काला रंग नहीं पहनना चाहिए ये रंग उनके लिए अशुभ होते हैं। इस दिन महिलाओं को लाल या पीले रंग की साड़ी पहननी चाहिए जो सुहाग की निशानी मानी जाती है और सुहागिनों के लिए ये रंग शुभ भी माने जाते हैं।
  • इस दिन पत्नी को गेहूं या चावल के 13 दानें हाथ में लेकर करवा चौथ की कथा सुननी चाहिए। मिट्टी के करवे में गेहूं, ढक्कन में चीनी और उसके ऊपर कपड़े आदि रखकर सास, जेठानी को देना चाहिए। इसके बाद ही रात में चांद दिखने पर सबसे पहले उन्हें अर्घ्य चढ़ाना चाहिए, इसके बाद पति के पानी पिलाने पर अपना व्रत खोल लेना चाहिए।

तो देखा आपने करवा चौथ के दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं जिससे आपका व्रत भी सम्पूर्ण हो और आपको व्रत का शुभ फल मिल सके जिससे आपके पति की उम्र लंबी की कामना भी पूरी हो जाएगी।

एक ऐसा मंदिर जहां मूर्तियां करती हैं बातें, जानिए क्या है पूरा सच

Tags
, ,

RELATED POSTS

© 2017 Dew Media News Broadcasting Private Limited