खरना आज, व्रती रखेंगे 36 घंटे का उपवास

chhath pujaसूर्योपासना अनुष्ठान का महापर्व छठ मंगलवार से नहाय खाय के साथ ही प्रारंभ हो चुका है। छठव्रती स्नान, ध्यान के साथ अरवा चावल, चना दाल और कद्दू की सब्जी बनाकर ग्रहण किया। घर के सदस्यों ने भी प्रसाद ग्रहण किया। इसके साथ ही छठव्रतियों का उपवास भी प्रारंभ हो गया है।

करवा चौथ: पूजा का फल चाहिए तो भुलकर भी न करें ये काम

आज इसका दूसरा दिन है

दूसरी ओर छठव्रतियों के द्वारा खरना की प्रसाद के लिए गेंहु आदि धोकर सुखाने का काम किया। वहीं दूसरी ओर पतरातू के चारों ओर छठ मईया के गीत गूंज रहे हैं।  आज इसका दूसरा दिन है इस दिन खरना व्रत की परंपरा निभाई जाती है। इस मौके पर महिलाएं दिन भर उपवास करती हैं और शाम में भगवान सूर्य को खीर-पूड़ी, पान-सुपारी और केले का भोग लगाने के बाद प्रसाद को बांटा जाता है।

माँ दुर्गा के नौ रूपों को चढ़ाएं ये नौ भोग, पूरी होंगी सारी इच्छाएं

मिट्टी के चुल्हे पर बनती है खीर

इस दिन घर में मिट्टी के चूल्हे पर आम की लकड़ी जलाकर खीर तैयार की जाती है। इसमें आम की लकड़ी का प्रयोग विशेष तौर पर होता है। मिट्टी के नए चूल्हे पर दूध, गुड़ व आरव के चावल से खीर और गेहूं के आटे की रोटी का प्रसाद बनाया जाएगा। प्रसाद बन जाने के बाद शाम को सूर्य की आराधना कर उन्हें भोग लगाया जाता है और फिर व्रती प्रसाद ग्रहण करती है।

24 अक्टूबर- नहाय खाय

25 अक्टूबर- खरना

26 अक्टूबर- संध्या

27 अक्टूबर- सूर्योदय अर्ध्य

 

Tags

RELATED POSTS

© 2017 Dew Media News Broadcasting Private Limited