पाकिस्तान: नहीं रहीं मानवाधिकार कार्यकर्ता आसमा जहांगीर

Asma Jahangir

पाकिस्तान में सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की पूर्व अध्यक्षा और जानीमानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आसमा जहांगीर का 66 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से लाहौर में निधन हो गया। मुंज़े जहांगीर ने अपनी मां की मृत्यु की पुष्टि की है और कहा कि वह इस वक्त देश से बाहर हैं और उनके भाई ने उन्हें इस ख़बर के बारे में बताया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक आसमा जहांगीर की तबियत रविवार को ही अचानक ख़राब हुई जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बता दें कि, आसमा जहांगीर का जन्म 27 जनवरी 1952 को लाहौर में हुआ था। लाहौर के ही कॉन्वेंट ऑफ़ जीसस एंड मैरी से ग्रैजुएशन और फिर पंजाब यूनिवर्सिटी से उन्होंने क़ानून की पढ़ाई की। इसके बाद वो लॉ की आगे की पढ़ाई के लिए स्विटज़रलैंड, कनाडा और अमरीका भी गईं। लाहौर के क़ायदे-आज़म लॉ कालेज में उन्होंने संविधान भी पढ़ाया था। मानवाधिकार आयोग की पूर्व प्रमुख आसमा जहांगीर पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की अध्यक्ष चुनी जाने वालीं पहली महिला वकील थीं। बतातें चलें कि, जहांगीर हमेशा से पाकिस्तानी सेना और आइएसआइ के खिलाफ मुखर रहीं। उन्होंने पाकिस्तान की राजनीति में सेना की भूमिका के खिलाफ आवाज उठाई थी।

Tags

RELATED POSTS

© 2017 Dew Media News Broadcasting Private Limited