विदेशियों के लिए इलाज की पहली पसंद बना भारत

india

चिकित्सा के क्षेत्र में भारत दुनिया में अधिक नाम कमा रहा है वहीं विदेशियों के लिए ईलाज कराने के लिए भारत पसंदीदा देश बनाता जा रहा है। बता दें की वर्ष 2016 में 1,678 पाकिस्तानियों और 296 अमरीकियों समेत 2 लाख से अधिक विदेशियों ने भारत आकर स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठाया।

श्रीनगर में सीअारपीएफ कैंप पर हमला करने आए आतंकियों को सेना ने घेरा, मुठभेड़ जारी

गृह मंत्रालय के मुताबिक

गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 2016 में दुनिया भर के 54 देशों के 2,01,099 नागरिकों को चिकित्सा वीजा जारी किए गए। भारत ने 2014 में अपनी वीजा नीति को उदार बनाया है। एक उद्योग मंडल द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि भारत के प्रमुख चिकित्सा स्थल के रूप में उभरने का प्राथमिक कारण विकसित देशों की तुलना में यहां काफी कम कीमत पर उचित चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होना है, जो 2020 तक बढ़कर 7-8 अरब डॉलर का हो सकता है।

राम मंदिर के लिए मस्जिद शिफ्ट करने का दिया आइडिया, AIMPLB से हुए बर्खास्त

2016 के आंकड़ों के मुताबिक

2016 में सबसे ज्यादा चिकित्सा वीजा बांग्लादेशी नागरिकों (99,799) को जारी किए गए। इसके बाद अफगानिस्तान (33,955), इराक (13,465), ओमान (12,227), उज्बेकिस्तान (4,420), नाइजीरिया (4,359) समेत अन्य स्थान हैं। इसी के साथ 1,678 पाकिस्तानियों, 296 अमरीकियों, ब्रिटेन के 370 नागरिकों, रूस के 96 नागरिकों और 75 ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को भी चिकित्सा वीजा जारी किए गए।

Tags
,

RELATED POSTS

© 2017 Dew Media News Broadcasting Private Limited